दाइश के विरुद्ध पश्चिम के क्रियाकलापों की तुर्की के राष्ट्रपति ने कड़ी आलोचना की है।

रजब तैयब अर्दोग़ान ने कहा है कि आतंकवादी गुट दाइश के विरुद्ध संघर्ष में पश्चिम की कार्यवाहियां बिल्कुल भी गंभीर नहीं रहीं।

तुर्की के राष्ट्रपति ने कहा कि दाइश के विरुद्ध संघर्ष में आजतक पश्चिम ने कोई भी उल्लेखनीय कार्यवाही नहीं की जबकि उसको एसा ज़रूर करना चाहिए था।  उन्होंने कहा इस बारे में अबतक पश्चिम ने केवल मौखिक युद्ध किया है व्यवहारिक नहीं। 

तुर्की के राष्ट्रपति ने यह दावा किया कि इस आतंकी संगठन के ख़िलाफ केवल हमारे देश ने भी गंभीर कार्यवाही की है। 

उल्लेखनीय है कि इराक़ और सीरिया के कुछ क्षेत्रों पर नियंत्रण स्थापित करने के बाद आतंकवादी गुट दाइश ने सन 2014 में अपनी तथाकथित इस्लामी सरकार के गठन की घोषणा की थी।  इस दौरान उसने बहुत जघन्य अपराध किये।

बाद में जनरल क़ासिम सुलैमानी ने इराक़ और सीरिया की सरकारों और जनता के सहयोग से दाइश के विरुद्ध अभियान आरंभ किया।  इस अभियान में उन्होंने इस आतंकी गुट को परास्त कर दिया।  इस प्रकार से उन्होंने इराक़ और सीरिया से आतंकी गुट दाइश का बोरिया बिस्तरा बांध दिया। 

21 दिसंबर 2017 को अपने एक संबोधन में क़ासिम सुलैमानी ने पूरी दुनिया से दाइश के समाप्त किये जाने का वचन दिया था।  उनका यह कथन इसलिए व्यवहारिक नहीं हो सका क्योंकि अमरीका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के आदेश पर इराक़ में किये गए हमले में जनवरी 2020 को जनरल क़ासिम सुलैमानी शहीद हो गए।

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए 

फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक करें





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.